बिगड़ते पर्यावरण से समाज के अस्तित्व पर खतरा, सौर-अक्षय ऊर्जा से बचेगा

Source : Bhaskar

 सम्राट अशोक अभियांत्रिकीय संस्थान में 2 दिवसीय एनर्जी स्वराज यात्रा का आगमन हुआ। यह यात्रा भोपाल से होते हुए विदिशा पहुंची। इसमें आईआईटी मुंबई के विद्युत विभाग के प्रोफेसर डा. चेतन सिंह सोलंकी एवं उनकी टीम के सदस्य विशेष रूप से मौजूद थे। जगह-जगह उनका स्वागत किया गया। सौर गांधी के नाम से मशहूर प्रोफेसर चेतन सोलंकी सौर ऊर्जा के प्रति लोगों में जागरुकता जगाने के लिए देश भर की यात्रा पर निकले हैं। वे लगातार 11 साल तक घर-परिवार से दूर रहकर लोगों को जागरुक करने के साथ ही उन्हें सौर ऊर्जा का उपयोग करने की ट्रेनिंग भी दे रहे हैं। ज्ञातव्य है कि 26 नवंबर को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल में एनर्जी स्वराज यात्रा को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया था। प्रो. सोलंकी 11 वर्षों तक लगातार बस के माध्यम से पूरे भारत में भ्रमण कर रहे हैं। बस में मीटिंग से लेकर ट्रेनिंग देने तक की सभी हाइटेक तकनीकी सुविधाएं मौजूद हैं। मुख्यमंत्री ने प्रो. सोलंकी को मध्यप्रदेश में सौर ऊर्जा के लिए प्रदेश का ब्रांड एंबेसडर बनाया है। प्रो. सोलंकी ने महात्मा गांधी के आदर्शों का पालन करते हुए इसे ऊर्जा स्वराज शब्द दिया है। वे ऊर्जा स्वराज आंदोलन, लोगों तक ऊर्जा की पहुंच, ऊर्जा स्थिरता, आवश्यकता और जलवायु परिवर्तन की दिशा में एक महत्वपूर्ण जनांदोलन के रूप में कार्य कर रहे हैं। सौर ऊर्जा अभियान ही कर सकता है पर्यावरण की सुरक्षा: एसएटीआई के कैलाश सत्यार्थी हाल में अपरान्ह 3 बजे सौर ऊर्जा ट्रेनिंग कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि डा प्रो.. चेतन सिंह सोलंकी, विशेष अतिथि एमजेइएस सचिव डा. लक्ष्मीकांत मरखेड़कर एवं संस्था संचालक डा. जर्नादन की अध्यक्षता में किया गया। इसमें संस्था स्टाफ और छात्र छात्राओं को सौर ऊर्जा तकनीकी की विस्तृत तकनीकी जानकारी दी गई। संस्था संचालक डा. जर्नादन ने सभी अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि बिगड़ते पर्यावरण से समाज के अस्तित्व पर खतरा उत्पन्न हो गया है। सौर ऊर्जा सहित अक्षय ऊर्जा के अन्य साधनों का उपयोग हमें इस खतरे से बचा सकता है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का आत्म निर्भर भारत अभियान ऊर्जा के क्षेत्र में आत्म निर्भरता प्राप्त होने पर ही पूर्ण होगा। प्रोफेसर डा. चेतन सिंह सोलंकी ने कहा कि बचपन से ही मेरी इच्छा ग्रामीण क्षेत्र के विकास के लिए कुछ करने की थी। उन्होंने कहा यह कार्य भाषण एवं आफिस में बैठकर नहीं किया जा सकता। इसको जन आंदोलन के माध्यम से ही जन-जन तक पहुंचाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि इस बड़े बदलाव के लिए एक दशक से भी अधिक वक्त लग सकता है।

आज कलेक्टर करेंगे सोलर प्रदर्शनी का उद्घाटन

शनिवार को सुबह 11 बजे सोलर हाउस एवं प्रदर्शनी का उद्घाटन मुख्य अतिथि कलेक्टर डा. पंकज जैन द्वारा कैलाश सत्यार्थी हाल में किया जाएगा। इसमें मुख्य रूप से सोलर उत्पाद जैसे कि सोलर दिया,सोलर टार्च, सोलर मोबाइल चार्जर, सोलर लालटेन, सोलर कार एवं सोलर इस्टेटी लैम्प का प्रदर्शन किया जायेगा। संस्था संचालक डा. जर्नादन ने विदिशा जिले के नागरिकों से उक्त प्रदर्शनी में आकर उसका लाभ उठाने का आग्रह किया। सोलर इनर्जी के तारतम्य में इनर्जी स्वराज फाउंडेशन एवं एसएटीआई के मध्य एमओयू भी होगा।

Post a Comment

0 Comments